रिम्स के निदेशक के बंगले पर लालू यादव जबक़ी निदेशक गेस्ट हाउस में रहने को मजबूर

राँची: क्या आपने कभी देखा है की एक सजायाफ्ता कैदी एक बंगले में रहता हो और वह भी बंगला  एक बड़े अधिकारी का जबकि उस बंगले का मालिक  एक गेस्ट हाउस में रहता हो , जी हां  ऐसा ही एक  अजीबोगरीब मामला  झारखंड में  सामने आया है झारखंड के सबसे बड़े सरकारी अस्‍पताल रिम्स यानी  राजेन्द्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में चारा घोटाले में सज़ायाफ्ता कैदी लालू प्रसाद रिम्‍स निदेशक के लिए आवंटित केली बंगले में रह कर इलाज करा रहे है जबकि रिम्स के स्थायी निदेशक सरकारी बंगले की जगह गेस्ट हाउस में रह रहे है।
रिम्स के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा कि स्थायी निदेशक के होते हुए वे खुद के सरकारी आवास में नहीं रह पाएंगे उनके रहने की व्यवस्था गेस्ट हाउस में की गई है. यह इसलिए हो रहा है क्‍योंकि लालू प्रसाद डायरेक्टर के लिए आवंटित कैली बंगले में रह रहे हैं जिससे रिम्‍स निदेशक के लिए रहने की जगह नहीं है.
 दरअसल कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव को लेकर रिम्स प्रशासन द्वारा चारा घोटाले में सज़ायाफ्ता कैदी लालू यादव को रिम्स डायरेक्टर के बंगले में शिफ्ट किया गया था, जब लालू यादव को बंगले में शिफ्ट किया गया था इस वक़्त रिम्स के डायरेक्टर का पद खाली था. लेकिन अब रिम्स के नए स्थायी निदेशक पद्मश्री डॉ कामेश्वर प्रसाद रिम्‍स निदेशक का प्रभार ग्रहण कर लिया है, लेकिन उन्हें अपना आवास नहीं मिल पाया है वे स्टेट गेस्ट हाउस में रहनें को मजबूर हैं. वजह है लालू यादव का उस बंगले में रहना. हालांकि  इस मामले में रिम्स डायरेक्टर नें ज्यादा कुछ बोलने से बचते हुए कहा कि मैं देखूंगा कि किन परिस्थितियों में लालू यादव को वहां रखा गया है.
इस मामले पर बीजेपी प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा नें कहा कि ये राज्य के लिए दुर्भाग्य की बात है कि रिम्स के निदेशक गेस्ट हाउस में रहनें को मजबूर हैं, जबकि एक सज़ायाफ्ता कैदी उनके बंगले में रह रहा है. उन्होनें कहा कि हेमंत सरकार लालू के कदमों में नतमस्तक हो गयी है.
केगौरतलब है कि जब से झारखंड में यूपीए की सरकार बनी है लालू यादव के लिए जेल मैनुअल का उल्लंघन करना आसान सा हो गया है बीते 1 साल में लालू यादव से मिलने कई लोग आ चुके हैं दरअसल होता यह है कि सजायाफ्ता कैदी से शनिवार को सिर्फ 3 लोगों को मिलने की इजाजत होती है लेकिन ऐसा कई बार हुआ है जब लालू यादव से जेल मैनुअल का उल्लंघन कर मिला गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *