शपथ लेने वाले 15 में से 7 मंत्री पिछड़े वर्ग से, भाजपा के कोटे से दो डिप्टी सीएम समेत 7 मंत्री

नीतीश कुमार 7वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बन गए। उनके साथ 14 नेताओं ने मंत्री पद की शपथ ली। इनमें जदयू से 5, भाजपा से 7 और हम-वीआईपी से एक-एक नेता को मंत्री बनाया गया। मंत्रिमंडल में सभी समुदायों को साधने की कोशिश की गई। नीतीश समेत 15 विधायकों में सवर्ण समुदाय से 5, पिछड़ा वर्ग से 7 और दलित समुदाय से 3 नेताओं को मंत्री बनाया गया है।

नीतीश की पहली कैबिनेट मीटिंग मंगलवार को होगी और विधानसभा का नया सत्र 23 नवंबर को शुरू होगा।

नीतीश कुमार के शपथ लेने के बाद दूसरे नंबर पर तारकिशोर प्रसाद और तीसरे नंबर पर रेणु देवी ने शपथ ली। शपथ के बाद ये दोनों नेता भी मंच पर ही नीतीश के पास रखी दो कुर्सियों पर बैठ गए। पोर्टफोलियाे बंटने में भले ही देर थी, लेकिन इससे साफ हो गया कि नई सरकार में तारकिशोर और रेणु डिप्टी सीएम होंगे।

बिजेंद्र यादव सबसे उम्रदराज, सहनी सबसे युवा

  • जातिगत समीकरण: भाजपा से 2 पिछड़े, 4 अगड़े और एक दलित को मौका मिला है। जदयू से एक अगड़े, 4 पिछड़े और एक दलित को मंत्री बनाया गया है।
  • सबसे उम्रदराज: सुपौल से 8 बार से विधायक 74 साल के बिजेंद्र यादव सबसे उम्रदराज मंत्री हैं। जदयू नेता बिजेंद्र पिछली सरकार में भी ऊर्जा मंत्री थे।
  • सबसे कम अनुभवी: फुलपरास से विधायक शीला कुमारी मंडल पहली बार जदयू के टिकट पर चुनाव लड़ीं और जीत गईं। उन्हें सीधे मंत्रिमंडल में मौका मिला है।
  • सबसे युवा: 41 साल के VIP चीफ मुकेश सहनी इस मत्रिमंडल में सबसे युवा हैं। वे इकलौते ऐसे मंत्री हैं जो किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं। उन्होंने सिमरी बख्तियारपुर सीट से चुनाव लड़ा, लेकिन हार गए।
  • सबसे अमीर: भाजपा के रामसूरत राय सबसे अमीर मंत्री हैं। उनकी संपत्ति 26.88 करोड़ रुपए है।
  • सबसे कम संपत्ति: रामप्रीत पासवान के पास सबसे कम 1.05 करोड़ रुपए की संपत्ति है।
  • जो विधान परिषद से हैं: हम के संतोष मांझी और भाजपा के मंगल पांडे ने चुनाव नहीं लड़ा था। दोनों विधान परिषद के सदस्य हैं।
  • सबसे ज्यादा क्रिमिनल केसः मुकेश सहनी (VIP), अशोक चौधरी (जदयू) और जीवेश मिश्रा (भाजपा) पर 5-5 मामले दर्ज हैं।
  • शपथ: रामप्रीत पासवान और जीवेश मिश्र ने मैथिली में शपथ ली।

पहली पंक्ति में नहीं बैठ पाए सुशील मोदी
शपथ समारोह में गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे। शाह और नड्डा पहली पंक्ति में बैठे, पर इस कतार में बैठने वाले मेहमानों की लिस्ट में डिप्टी सीएम रहे सुशील मोदी का नाम नहीं था।

नीतीश कुमार के साथ तारकिशोर (बीच में) और रेणु देवी। मंच पर तीन ही कुर्सियां लगाई गई थीं। इससे साफ हो गया कि बिहार में ये दो नेता डिप्टी सीएम होंगे।
नीतीश कुमार के साथ तारकिशोर (बीच में) और रेणु देवी। मंच पर तीन ही कुर्सियां लगाई गई थीं। इससे साफ हो गया कि बिहार में ये दो नेता डिप्टी सीएम होंगे।
इन्होंने ली शपथ पार्टी कहां से विधायक
तारकिशोर भाजपा वैश्य समुदाय से आते है। भाजपा विधानमंडल के नेता। कटिहार से 4 बार से विधायक। 12वीं तक पढ़े हैं। डिप्टी सीएम पद इन्हीं के पास होगा।
रेणु देवी भाजपा भाजपा विधानमंडल की उपनेता। अति पिछड़े नोनिया समुदाय से आती हैं। बेतिया से विधायक हैं। 2005 से 2009 तक खेल और संस्कृति मंत्री रह चुकी हैं।
विजय चौधरी जदयू पिछली विधानसभा में स्पीकर थे। नीतीश के करीबी। इस बार सरायरंजन से जीते हैं। यहां से 6 बार से विधायक हैं।
बिजेंद्र यादव जदयू 74 साल के यादव सबसे उम्रदराज मंत्री। जेपी आंदोलन के समय से राजनीति में हैं। 1990 से सुपौल से 8 बार से विधायक हैं। पिछली सरकार में ऊर्जा मंत्री रहे।
अशोक चौधरी जदयू महादलित वर्ग से हैं। जदयू के कार्यकारी अध्यक्ष हैं और नीतीश के करीबी हैं। कभी कांग्रेस में थे।
मेवालाल चौधरी जदयू कुशवाहा वर्ग से हैं। तारापुर से विधायक हैं। बिहार एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर रहे।
शीला कुमारी जदयू अति पिछड़े वर्ग से हैं। फुलपरास से विधायक हैं। पहली बार चुनाव जीती और मंत्री बनीं।
संतोष मांझी हम महादलित वर्ग से हैं और विधान परिषद के सदस्य हैं। 4 सीटों वाली पार्टी हिंदुस्तान आवाम मोर्चा यानी हम के चीफ जीतनराम मांझी के बेटे हैं।
मुकेश सहनी VIP निषाद वर्ग से आते हैं। महागठबंधन छोड़कर NDA में आए। खुद सिमरी बख्तियारपुर सीट से चुनाव हार गए, लेकिन उनकी पार्टी 4 सीटें जीत गई।
मंगल पांडेय भाजपा ब्राह्मण समुदाय से हैं। पिछली सरकार में स्वास्थ्य मंत्री थे। आरएसएस और एबीवीपी में रह चुके हैं। विधान परिषद के सदस्य हैं। बिहार भाजपा के अध्यक्ष भी रहे।
अमरेंद्र प्रताप सिंह भाजपा राजपूत वर्ग से हैं और आरा से विधायक हैं।
रामप्रीत पासवान भाजपा पार्टी का दलित चेहरा हैं। लोजपा के अलग होने के बाद पासवान समुदाय के नेता को भाजपा ने मंत्री बनाया। मधुबनी के राजनगर से विधायक हैं। मैथिली में शपथ ली।
जीवेश मिश्रा भाजपा मिथिलांचल में भूमिहार समुदाय के बड़े नेता। दरभंगा की जाले सीट से विधायक हैं। मैथिली में शपथ ली।
रामसूरत राय भाजपा मुजफ्फरपुर के औराई से विधायक। यादव समुदाय से आते हैं। पहली बार मंत्री बन रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने नीतीश को बधाई दी, कहा- NDA परिवार मिलकर काम करेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed