बिहार विधानसभा चुनाव: अपने तीसरे दौरे में मोदी ने की चार रैली, लोगों को जंगलराज की दिलाई याद, नीतीश भी रहे साथ

रिपोर्ट: ऋतुराज कुमार
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को बिहार में एक के बाद एक चार रैलियों को संबोधित किया। सबसे पहले मोदी छपरा पहुंचे जहां उन्होंने एनडीए समर्थित प्रत्याशी के पक्ष में रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी और तेजस्वी यादव पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि हमारी डबल इंजन वाली सरकार है तो यहां डबल युवराज हैं। मोदी ने कहा कि यूपी में जो डबल युवराज का हुआ वही बिहार में होने वाला है। छपरा के बाद मोदी समस्तीपुर रैली के लिए निकल गए यहां उन्होंने कहा कि हर सर्वे एनडीए की जीत का दावा कर रही है क्योंकि हमारी माताएं और बहनें हमें वोट कर जीता रही हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने नीतीश कुमार की तारीफ करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महिला शिक्षा को लेकर राज्य में बेहतरीन काम किया है और आगे भी इनके नेतृत्व में राज्य विकास करेगा। उन्होंने बिहार को लोकतंत्र की पहली पाठशाला बताया। परिवारवाद की राजनीति पर तंज कसते हुए पीएम ने कहा कि न तो मेरा और न नीतीश कुमार के परिवार के लोग राजनीति में हैं हमारा उद्देश्य जनता की सेवा है। समस्तीपुर के बाद मोदी का उड़नखटोला पूर्वी चंपारण जिले के मुख्यालय मोतिहारी के लिए उड़ चला। जहां उन्होंने रैली को संबोधित करते हुए लोगों को लालू के जंगलराज की याद दिलाई। उन्होंने लोगों को चेताते हुए कहा कि आपकी गलती आपको फिर जंगलराज में ले जाएगी। राज्य-क्षेत्र में अपहरण-रंगदारी की घटनाएं आम हो जाएंगी। मोदी ने मतदाताओं से सतर्क रहने की अपील की। मोतीहारी के बाद पश्चिम चंपारण जिले के अपने आखिरी चुनावी सभा में करीब तीन बजे बगहा पहुंचे मोदी ने बगहा विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी रामसिंह और वाल्मीकिनगर लोकसभा क्षेत्र में हो रहे उपचुनाव में खड़े जेडीयू प्रत्याशी सुनील कुशवाहा के पक्ष में जनता को संबोधित किया। उन्होंने कांग्रेस और राजद पर निशाना साधते हुए कहा कि ये वो लोग हैं जो देश के शहीदों पर संदेह करते हैं। मोदी ने कहा कि इस चुनाव में एक पक्ष जंगलराज का है जो अंधेरा वापस लाना चाहता है ताकि फिर से लालटेन जले। दूसरा एनडीए है जिसने हर घर बिजली पहुंचाकर एलईडी से दुधिया रोशनी कर दी। बगहा कि अपनी सभा में मोदी ने ये वादा किया कि अगर बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में फिर एनडीए की सरकार बनती है तो यहां के मातृभाषा में मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज खुलेंगे। जिससे गरीब का बेटा भी डॉक्टर-इंजीनियर बन सकेगा। बता दें कि प्रधानमंत्री की सभी रैलियों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी साथ रहें। उन्होंने भी अपने सभी संबोधन में अपनी 15 साल की उपलब्धियां गिनाई और जंगलराज को वापस न आने देने की जनता से अपील की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed