बिहार के लाल डॉ आशीष सिंह किया कमाल, पटना में मेको रोबोटिक तकनीक से घुटना और कुल्हा प्रत्यारोपण की सर्जरी उपलब्ध

दुनिया के सबसे आधुनिक एवं उन्नत रोबोटिक तकनीक से इस अस्पताल में बिहार के विभिन्न हिस्सों से आए दस मरीजों के जोड़ को बदलकर उनको एक नया जीवन दिया गया और 72 घंटों के भीतर छुट्टी भी दे दी गई।  मेको तकनीक से प्रत्येक रोगी के लिए सर्जरी से पूर्व एक विषेष योजना तैयार किया जाता है। मेको जोड़ प्रत्यारोपण सर्जरी में पूर्ण रूप से एक क्रांतिकारी परिवर्तन है। इस कोविड-19 महामारी के दौर में, यह दर्द मुक्त, अधिक सुरक्षित और कम समय में मरीज को घर जाने की सुविधा प्रदान करता है। हमें पटना में इस तकनीक को लाने में गर्व एवं खुशी है। पटना, रोबोटिक सर्जरी में भारत और दुनिया भर के रोगियों के लिए एक विश्वस्तरीय केन्द्र बन जाएगा। अनूप इंस्टीच्यूट ऑफ आर्थोपेडिक्स एण्ड रिहैबिलिटेशन ने हड्डी रोग के क्षेत्र में इतिहास रचते हुए पूर्वी भारत का पहला अस्पताल बना जहां दूनिया के सबसे आधुनिक एवं उन्नत मेको लियो 2 रोबोटिक तकनीक से जोड़ प्रत्यारोपण की सर्जरी की गई। इस अवसर पर डा. आशीष सिंह ने बताया कि अनूप इंस्टीच्यूट आफ आर्थोपेडिक्स एण्ड रिहैबिलिटेशन का सतत प्रयास है कि विश्व स्तरीय की चिकित्या सुविधा बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के सभी लोगों के लिए उपलब्ध हो। हमारे अस्पताल ने मेको तकनीक से दस मरीजों का सफल जोड़-प्रत्यारोपण करके उन्हें दर्द मुक्त जीवन प्रदान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed