Covid-19 संकट के बीच फैला नई बीमारी का खतरा, 18 कोरोना पॉजिटिव बच्चे PMIS के शिकार

एक तरफ कोरोनावायरस (Coronavirus) का कहर है जो थमने का नाम नहीं ले रहा. दूसरी तरफ अब बच्चों में अलग तरह की बीमारी देखने को मिल रही है. मुंबई (Mumbai) के वाडिया अस्पताल (Wadia Hospital) में अब तक 100 बच्चे कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) है. जिनमें से 18 बच्चे PMIS यानी Paediatric Multisystem Inflammatory Syndrome का शिकार हैं.

समय पर PMIS की पहचान जरूरी

अधिकतर बच्चों में ये बीमारी कोरोना से ठीक होने के बाद मिली है. डॉक्टर्स के अनुसार समय पर इसे जानना बेहद जरूरी है. इसके लक्षण सामान्य हैं, जैसे बुखार आना, स्किन में रैश होना, आंखों का जलना, पेट संबंधी बिमारियां. 10 महीने से लेकर 15 साल तक के बच्चों में इस बीमारी के लक्षण देखने को मिले और ये स्थिति चिंताजनक है. वाडिया अस्पताल ने ICMR को इसकी जानकारी दी है और अन्य जगहों से भी इसका डेटा मंगाया है.

वाडिया अस्पताल की मेडिकल डायरेक्टर डॉ. शकुंतला प्रभु ने इस नई बीमारी को लेकर अधिक जानकारी दी.

PMIS पर डॉ. शकुंतला प्रभु द्वारा दी गई जानकारी के अहम प्वॉइंट्स-

1. मार्च से लेकर अब तक 600 बच्चों के टेस्ट हुए, जिनमें से 100 पॉजिटिव हैं. उनमे से 18 बच्चों में ये लक्षण देखने को मिले.

2. कोविड पॉजिटिव और कोविड एंटीबॉडी पॉजिटिव दोनों में इस बीमारी के लक्षण मिले हैं.

3. बुखार आना-जाना, स्किन मे रैश होना, आंखें लाल होना, सुस्त रहना, पेट सम्बंधि बीमारी देखने को मिली.

4. ये कावासाकी जैसे लक्षण हैं, पर कावासाकी छोटे बच्चों में देखने को मिलती है. जबकि PMIS 10 महीने से लेकर 15 साल तक के बच्चों में देखने को मिल रहा है.

5. इसको समय पर पहचानना जरूरी है, तभी सपोर्ट किया जा सकता है. बहुत बच्चे रिकवर हो कर गए हैं. जिनकी मौत हुई वो क्रिटिकल कंडिशन में यहां पर आये थे.

6. जिस बच्चे की मौत हुई उसमें बहुत समय से ये सिम्पटम थे, लेकिन समय पर पता नहीं चल पाया. समय पर इसे पहचनना जरूरी है. ये रेयर है और हम अभी देख रहे हैं.

7.  ICMR से हमने सम्पर्क किया है. बाकी जगहों से भी डाटा क्लेक्ट कर रहे हैं.

 

रिपोर्ट:- शिवांगी ठाकुर, TV9

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed